Dr. Anil Kumar Sharma

प्रिय विधार्थियों,

श्री जैन पाठशाला सभा द्वारा संचालित श्री जैन स्नातकोत्तर महाविद्यालय में प्रवेश के इच्छुक सभी विधार्थियों का हार्दिक स्वागत है। आप एक ऐसे श्रेष्ठ व राज्य के अग्रणी महाविद्यालय के विधार्थी बनने जा रहे हैं, जिसने विगत 62 वर्षों से उच्च कोटि की परम्पराओं का निर्वहन करते हुए सदैव कत्र्तव्यपरायणता, समर्पणशीलता, अनुशासन व अध्यापन कुशलता के प्रतिमान स्थापित कर स्वस्थ वातावरण बनाये रखा है।
मानव जीवन अमूल्य निधि है, शिक्षा समाज का दर्पण है। महाविद्यालय में प्रवेश का तात्पर्य केवल डिग्री प्राप्त करना ही नहीं है बल्कि मानव जीवन के उच्चतम लक्ष्यों को प्राप्त करना है। विधार्थी काल जीवन का स्वर्णिम काल होता है। व्यक्ति के जीवन में असम्भव शब्द नहीं होता है। जीवन में सफलता की प्राप्ति हेतु उचित दिशा व कठोर परिश्रम की आवश्यकता होती है। गुरूजनों की असीम कृपा व आशीर्वाद शिश्यों के मानसिक व बौद्धिक विकास में असीम सहायक होता है। अज्ञान से ज्ञान तथा अंधकार से प्रकार की ओर ले जाने के संकल्प के साथ इस गौरवशाली संस्थान से जुड़कर आप ज्ञान की प्राप्ति करें।
इस महाविद्यालय का उद्देश्य पूर्णता के साथ जीवन व्यतीत करने के लिए विधार्थी तैयार करना है। आपकी सृजनात्मकता के उन्नयन के लिए हमारा प्रयास रहेगा कि महाविद्यालय में उपलब्ध सभी सुविधाओं लाभ मिले। इस महाविद्यालय में व्यक्तिगत विकास एवं रोजगारोन्मुख अनेक पाठ्यक्रम व प्रकोष्ठ संचालित है। विपुल संभावनाओं से युक्त इस महाविद्यालय में आप अपनी अभिरूचि के अनुसार इसमें भागीदारी कर सकते हैं।
इस महाविद्यालय में प्रवेश प्राप्त कर आप निश्चय ही गौरवान्वित अनुभव करेंगे। मेरी ये पंक्तियाँ खुद इस काॅलेज की गौरव गाथा बयान कर रही है –
मैं. धारों की खास धरोहर, है मेरा इतिहास अमर।
मैं मरूस्थल की सरस सरस्वती, ज्ञानालोकित मेरा घर।
तन-मन में तरूणाई, उर उगमाई? भरकर सबकी पूरी आशा।
मै. जैन पी.जी. काॅलेज हूँ, मैंने हर हीरे को सदा तराशा।
आप इस महाविद्यालय में पूर्ण मनोकामना के साथ अध्ययन कर अपने व्यक्तित्व की श्रेष्ठता को अर्जित करें और अपनी प्रतिभा का सर्वश्रेश्ठ प्रदर्शन कर अपने परिवार व समाज का गौरव बढ़ावें। अनुशासन को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनावें।
मैं श्री जैन स्नातकोत्तर महाविद्यालय की प्रबन्ध समिति, संकाय सदस्यों, मंत्रालयिक कर्मचारियों तथा अपनी ओर से महाविद्यालय में आपका तहेदिल से स्वागत करता हूँ। आपके उज्ज्वल भविष्य की हार्दिक मंगलकामना के साथ।

आपका शुभचिंतक
डाॅ. अनिल कुमार शर्मा
प्राचार्य